Wednesday, May 11, 2011

बस आना भूल जाते हो

तुम्हारे हाथ में अक्सर गुलाबी फूल देखे हैं ,
हमारी राह में लेकिन बिछाना भूल जाते हो |

तुम्हे तो लौट जाने की हमेशा फ़िक्र रहती है ,
मगर जब लौट जाते हो तो आना भूल जाते हो |

सुना है तुम हथेली पर हमारा नाम लिखते हो ,
मगर जब हमसे मिलते हो दिखाना भूल जाते हो |


No comments:

Post a Comment