Tuesday, July 19, 2011

काश हम समझ लेते

काश हम समझ लेते ,
मंजिलों की चाहत में ,
रास्ता बदल लेने से ,
फासला नहीं घटता |

दो घड़ी की कुर्बत में ,
चार पल की चाहत में ,
लोग लोग रहते है ,
काफिला नहीं बनता |

हाथ में दिये लेकर ,
होंठ पे दुआ लेकर ,
मंजिलों की जानिब को ,
चल भी दें तो क्या होगा ?

ख्वाहिशों के जंगल में ,
इतनी भीड़ होती है ,
कि उम्र के इस सफ़र में ,
रास्ता नहीं मिलता |
हमसफ़र नहीं मिलता ,
शायद कुछ नहीं मिलता ||